श्रीश उवाच .......

बहुत दिनों से ब्लॉग लिखना चाहता था.धन्यवाद गूगल को.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लेकॉनिक टिप्पणी का अभियोग ........ऐसा है क्या....? प्रेरणा : आदरणीय ज्ञानदत्त जी...

कि;

तितर-बितर मन : एक बड़बड़ाहट